Great content. you have an outstanding content with great sense. Checkout lsd blotter for sale We offer a 6 months guarantee for our notes

3 SEO WRITING TECHNIQUES: जिसकी मदद अपनी वेबसाइट को गूगल में रैंक कर सके जाने हिंदी में

 

SEO WRITING TECHNIQUES IN HINDI

नमस्कार दोस्तो, जब साल की शुरुआत हुई तब एक दिन में गूगल में 3.5 billion सर्च होते थे।

लेकिन अब 2020 का साल खत्म होते होते यह आंकड़ा 6 billion तक पहुंच चुका है।

इसका मतलब है कि आज इंटरनेट पर 90% ट्रैफिक गूगल सर्च से आता है।

तो दोस्तो इसका मतलब है कि यदि आप सिर्फ QUALITY और SEO OPTIMIZED CONTENT पब्लिश करते है तो आप अपने वेबसाइट या ब्लॉग पर Lots Of Traffic पा सकते है।

लेकिन सबसे जरूरी है CONTENT

तो दोस्तो आज के इस आर्टिकल में मै 3 SEO WRITING TECHNIQUES बताने वाला हूं, जिसकी मदद से आप अपने ब्लॉग के लिए Quality article लिख सकते हैं। तो आइए जानते है.....

Technique No 1: सही कीवर्ड का चुनाव करे

सबसे पहला जो स्टेप है वो है कि, अपने ब्लॉग कंटेंट के लिए high search volume, low competition keyword चुने।

आपने जो कीवर्ड चुना है उसके उपर या उसके around आप कंटेंट बनाए।

यहां पर यदि आप Long-Tail Keyword को choose करते है तो आपके ब्लॉग के लिए और भी बेहतर है।

जब आप Long-Tail Keyword को टारगेट करते है तो  इसमें आपको lower difficulty score मिलता है जिससे आप आसानी से अपने कंटेंट को रैंक करा सकते है, सिर्फ यही नहीं इसके साथ साथ आप जब long tail keyword को चुनते है तो ऐसे में आपके यूजर का buying intent भी short keyword से higher होता है।

For Example: जब कोई गूगल में सर्च करता है कि "Best Shirt" तो यह एक शॉर्ट टेल कीवर्ड है और इस कीवर्ड में आपको high competiton भी मिलेगा।

वहीं दूसरा एक बंदा है जो "Best Black Shirt For Men" या फिर "Best White Shirt For Boy" search करता है तो यह एक long tail keyword है। इसमें आपके यूजर इस शर्ट को खरीदने के लिए उत्सुक है।

तो उम्मीद है कि अब आप समझ चुके होगे कि आपके कंटेंट के लिए KEYWORD कितना इंपॉर्टेंट है।

ये जरूर पढ़े:


Technique No 2: सिर्फ Google के लिए बल्कि अपने यूजर के लिए कंटेंट लिखे


(1). In-depth डिटेल में कंटेंट लिखे

जब भी आप किसी टॉपिक पर कंटेंट लिखे तो उसके उपर उपर लिखने के बजाय, उस टॉपिक को रिसर्च करे और डिटेल में कंटेंट लिखे। जब आप उपर उपर बिना रिसर्च के कंटेंट लिखते है तो इस प्रकार के कंटेंट में ज्यादा info नहीं होती है और शायद गूगल के लिए और यूजर के लिए आपका कंटेंट worthless हो जाए

इसके विपरित जब आप पूरी रिसर्च के साथ डिटेल में कंटेंट लिखते है तो आपके यूजर और गूगल को भी आपका कंटेंट पसंद आता है।

आपने भी गूगल सर्च में पाया होगा कि जो अच्छी जानकारी के साथ कंटेंट है वो ही ज्यादातर गूगल के पहले पेज पर रैंक होते है।

आपको अपने ब्लॉग में अपने टॉपिक से जुड़े सभी सवाल, उसके subtopics को भी सही से cover करे।


(2). अच्छे ग्राफिक का उपयोग करे

आपकी 1 फोटो 100 शब्दो के बराबर है।

किसी ने कहा है लेकिन सच कहा है। जब आप अपने ब्लॉग में लगातार सिर्फ टेक्स्ट टेक्स्ट एड करते है तो उसको पढ़ने में यूजर को भी परेशानी होती है।

जब आप अपने आर्टिकल में अच्छे लेकिन high quality वाले ग्राफिक्स का उपयोग करते है तो इससे आपके यूजर पढ़ने में और समझने में आसानी होती है।


(3). अपने कंटेंट के हेडलाइन और यूआरएल को सही से ऑप्टिमाइज्ड करे

जब भी आप अपने कंटेंट का हेडलाइन और यूआरएल बनाए तो हो सके तो उसमे अपने टारगेटेड कीवर्ड को जरूर add करे लेकिन naturally.

यहां पर आपने इस आर्टिकल का टाइटल और यूआरएल देखा होगा, जिसमें मैंने naturally बिना कीवर्ड स्टफिंग के अपने टारगेटेड कीवर्ड "SEO WRITING TECHNIQUES IN HINDI" को एड किया है।

जिसे आप देख सकते है।


(4). अपने कंटेंट में H2 से लेकर H6 तक सही से उपयोग करे

आपके आर्टिकल में जो Sub-Hadings है वो आपके कंटेंट के एक मिनी हेडलाइन कह सकते है। जिसमें आप अपने टारगेटेड कीवर्ड से जुड़े दूसरे अलग अलग कीवर्ड को समावेश कर सकते है।


(5). जो भी outbound link add करे तो उसको एक नए टैब में ओपन करे।

आपके ब्लॉग में जो outbound link को शामिल किया है तो उसे कोशिश करे कि जब कोई यूजर उस लिंक को ओपन करे तो एक नए टैब में खुले।

ताकि आपका यूजर आपकी वेबसाइट पर बना रहे। जब आपका यूजर आपकी Outbound Link को खोलकर दूसरी वेबसाइट पर कंटेंट पढ़ने जाता है तो ऐसे में वो दूसरी टैब में आपकी वेबसाइट पर बना रहे।


(6). Add Meta Title And Description

यदि आप अपने ब्लॉग में Yoast SEO या Rankmath SEO प्लगइन का उपयोग करते हैं तो यह प्लगइन में आपको मेटा टाइटल और डिस्क्रिप्शन लिखने का ऑप्शन मिलता है।

इसमें आप अपने टारगेटेड कीवर्ड का उपयोग करके आर्टिकल के बारे में सही से जानकारी दे सकते है। क्योंकि आपका मेटा डिस्क्रिप्शन गूगल के SERP में दिखाई देता है और शायद कई यूजर इस जानकारी को पढ़कर भी आपके वेबसाइट पर आते है।

ऐसे में आपका मेटा डिस्क्रिप्शन अच्छा होगा तो इसका SEO में भी आपको मदद मिलेगी।


Technique No 3: Consistently New Content Publish करे

किसी भी काम को सफलतापूर्वक करने के लिए सबसे जरूरी चीज है वो है Consistency

यदि आप चाहते है कि आप जो SEO efforts दे रहे है उसके बदले में आपको अच्छा रिजल्ट मिले तो इसके लिए आपको diligent और consistent होकर काम करना होगा।

जब आप ऑनलाइन काम करना शुरुआत करते है तो इसमें आपको तुरंत रिजल्ट मिलेगा, इसके लिए आपको लगातार समय समय पर काम करना होगा।

ऐसे में आप 2-3 posts per week पब्लिश कर सकते है।


आज आपने क्या सीखा:


दोस्तो आज कल हर कोई Content Writing का काम करता है लेकिन इनको SEO Optimized करना भी जरूरी है। इसलिए आज के इस आर्टिकल में बात की 3 SEO WRITING TECHNIQUES IN HINDI की कैसे आप अपने कंटेंट को SEO Friendly बना सकते है, जिसको गूगल भी पसंद करे।

उम्मीद है कि आपको यह जानकारी हेल्पफुल लगी होगी?

यदि इस आर्टिकल से जुड़े कोई सवाल है तो आप नीचे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है।

Jaypal Thakor (DIGITAL JAYPAL 🙂)

क्या आप अपने ब्लॉग के लिए क्वालिटी HINDI CONTENT WRITER FIND कर रहे है?

अगर आप हमसे High quality, Impressive और SEO friendly आर्टिकल लिखवाना चाहते हो तो आप हमसे संपर्क कर सकते हो. ज्यादा जानकारी के लिए नीचे दिए गए whatsapp नंबर पे संपर्क करें.

हमारा whatsapp नंबर है : 7984614632

Checkout Our Services: Click Here

Post a Comment

0 Comments